Skip to main content

Posts

Showing posts with the label kawach for protection

Janmashtmi date and tips for success

when is Krishna Janmashtmi 2022, planetary positions during krishna birthday celebration, astrology significance and what to do for success,  How to perform janmashtami pooja at home? If you are devotee of lord krishna then you must know about the janmashtmi festival which is popular all over the world. Specially in ISKON temples this festival is celebrated with great excitement. This is the day when lord krishna took birth in this earth to protect saints, devotees from negative energies, to establish dharama, to show right path to humanbeings. In the year 2022 ashtmi tithi will start at 9:22 PM on 18th of august and remain till 11:09 PM of 19th of august. Janmashtmi date and tips for success Krishna is believed to be the incarnation of lord vishnu and this divine process of taking birth took place in the midnight of Ashtmi tithi of bhadrapad month in rohini nakshatra. as per hindu calender. Celebration Of krishna Janmashtmi: This is the day for which devotees of krishna waite

Amogh shiv kawach suraksha ke liye

 शिव कवचम्, अमोघ शिवकवच द्वारा सुरक्षा, अनिष्ट शक्तियों से हमें बचाने के लिए विशेष मंत्र से भगवान शिव की आराधना। कवच का अर्थ है ढाल जो किसी व्यक्ति को विभिन्न नकारात्मक शक्तियों से से बचाता है। यहां इस लेख में हम बात कर रहे हैं ढाल के बारे में जो मंत्रों से बनती है। हम देखेंगे शिव कवच की ताकत। शिव कवच के मंत्र बहुत शक्तिशाली होते हैं और नकारात्मक ऊर्जा, काला जादू, काली ऊर्जा से जाप करने वाले की सुरक्षा करते हैं। यह एक परम शक्तिशाली उपकरण है जो सुरक्षा के लिए भगवान शिव का आह्वान करता है। यदि आप भगवान शिव के भक्त हैं और जीवन की विभिन्न प्रकार की समस्याओं से मुक्ति पाना चाहते हैं तो भक्ति के साथ शिव कवच का पाठ करें। यह है काले जादू का उपाय। यह बुरी नजर का उपाय है। यह भय की समस्या का समाधान है। बुरे सपनों से मुक्ति मिलेगी। Amogh shiv kawach suraksha ke liye  SHIV KAWACH FOR PROTECTION शिव कवच का पाठ करने के लाभ: यह शिव कवच जीवन की अनदेखी समस्याओं का अचूक उपाय है। यह मनुष्य के लिए वरदान है। यदि कोई नियमित रूप से शिव कवच का पाठ करता है तो निःसंदेह यह व्यक्ति को रोग, अकाल मृत्यु, न