Fixed Deposit Versuss Bonds

Bonds versus fixed deposits, Should one opt for bonds or fixed deposits?, Bank fixed deposits Vs Bond funds, बांड बनाम फिक्स्ड डिपॉजिट, बांड या फिक्स्ड डिपॉजिट्स में से कौन सा विकल्प चुनना चाहिए ?, बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट्स बनाम बॉन्ड फंड
Bonds versus fixed deposits, Should one opt for bonds or fixed deposits?, Bank fixed deposits Vs Bond funds.
Fixed Deposit Versuss Bonds
Many investors are confused at the time of investing funds due to lack of knowledge. Here in Indian Bazars it is necessary to take every decision by having proper knowledge of any product. So here in www.indianbazars.com, knowledge of bonds and fixed deposits are being given. It will help investors to take best decision before investment.

What is BOND?
Bonds are debt instruments issued by corporate or public sector entities, like municipalities, state or central government entities. An investor can invest in bonds for a fixed time and at a fixed rate of interest. You can either buy the bonds at the time of their issue or from the secondary market where they are traded after issue.

Bonds are commonly reffered to as fixed income securities and are one of the three main generic asset classes, along with stocks(equities) and cash equivalents. Many corporate and government bonds are publicly traded on exchanges while others are traded only over the counter(OTC).

Important Things To Know About Bonds:

  • Check the rating of bonds before investing. Better rated bonds are good for investment. 
  • Bonds give more than 10% return while Fixed deposits give 6 to 8% returns. So do consider this before investment.
  • Bonds can be redeemed before maturity because they are traded in the secondary market. 
  • TDS is not applicable on interest payouts of bonds. 
  • A bond transaction is quick As soon as you send the payment bonds will be credited into account by the end of day. 
  • Now a days there are many companies which are offering investors with good interest rates. 
What Are Fixed Deposits?
Banks and NBFC’s(Non banking financial companies) provide facilities to investors to deposit there money for a fixed time period at take fixed interest rate. Investor can enjoy the periodic interest or lumpsom amount at the time of maturity.


Let’s See Chart To Check Difference Between Fixed Deposits and Bonds

Month Fixed Deposits Bonds
Safety Secured Secured
Interest Rate 6 to 8% per annum 10+ per annum
Liquidity Any time Trading facility
in Secodary Market
TDS YES No
Demat Account No Yes
Risk No Risk Depend upon type of bond
and rating
Insurance No Upto 1 lakh

Do read properly before investing in bonds and also keep in mind about your requirement in short term and long term before choosing right medium of investment.

Invest safely in Indian Money Market

Happy Investment
हिंदी में पढ़िए बांड और सावधि जमा के बारे में:

बांड बनाम फिक्स्ड डिपॉजिट, बांड या फिक्स्ड डिपॉजिट्स में से कौन सा विकल्प चुनना चाहिए ?, बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट्स बनाम बॉन्ड फंड
जब बात निवेश की आती है तो निवेशको को बहुत परेशानी आती है, जानकारी के अभाव में भटकाव हो सकता है इसी डर से बहुत से निवेशक निवेश करने से डरते हैं. इस बात को ध्यान मैं रखते हुए www.indianbazars.com, में विशेष लेख दिए जा रहे है जिससे लोग अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं, इससे निवेशको को निर्णय लेने में मदद मिलेगी.
बांड क्या होते हैं?
बांड कॉर्पोरेट या सार्वजनिक क्षेत्र की संस्थाओं द्वारा जारी किए गए ऋणावधि होते हैं ये बांड नगरपालिकाएं, राज्य या केंद्र सरकार की संस्थाएं जारी करते हैं. एक निवेशक बांड में एक निश्चित समय और ब्याज की एक निश्चित दर पर निवेश कर सकता है। आप या तो बांड जारी होने के समय उसे खरीद सकते हैं या फिर बाद में सेकेंडरी मार्केट से उसे खरीद सकते हैं, जहां उन्हें जारी किए जाने के बाद ख़रीदा-बेचा जाता है.
बॉन्ड को आमतौर पर फिक्स्ड आय सिक्योरिटीज के रूप में जाना जाता है और स्टॉक्स (इक्विटी) और कैश समकक्ष के साथ-साथ तीन मुख्य जेनेटिक एसेट क्लासेस में से एक है.  कई कॉरपोरेट और सरकारी बॉन्ड का सार्वजनिक रूप से एक्सचेंजों पर कारोबार होता है जबकि अन्य का कारोबार केवल काउंटर (ओटीसी) पर होता है।
आइये जानते हैं कुछ महत्त्वपूर्ण बाते बांड्स के बारे में:

निवेश करने से पहले बांडों की रेटिंग देखें,  बेहतर रेटेड बांड निवेश के लिए अच्छे होते है.
बांड 10% से अधिक रिटर्न देते हैं जबकि फिक्स्ड डिपॉजिट 6 से 8% रिटर्न देते हैं। तो निवेश से पहले इस पर विचार करें।
बॉन्ड को परिपक्वता से पहले भुनाया जा सकता है क्योंकि उनका द्वितीयक बाजार में कारोबार होता है।
बांड के ब्याज भुगतान पर टीडीएस लागू नहीं है
बांड का लेनदेन त्वरित होता है जैसे ही आप भुगतान करते हैं बांड आपके खाते में डाल दिए जाते हैं.
आज बहुत सी कंपनियां हैं जो अच्छे ब्याज दरों के साथ निवेशकों को आकर्षित कर रही है.

सावधि जमा क्या हैं?
बैंक और एनबीएफसी (गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां) निवेशकों को निश्चित ब्याज दर लेने के लिए निर्धारित समय के लिए वहां रकम जमा करने की सुविधा प्रदान करते हैं। निवेशक परिपक्वता के समय निश्चित ब्याज के साथ एकमुश्त राशि का आनंद ले सकता है।

ऊपर दिए गए चार्ट के माध्यम से भी आप समझ सकते है की बांड और सावधि जमा में क्या अंतर है.
बॉन्ड में निवेश करने से पहले ठीक से पढ़िए और निवेश के सही माध्यम चुनने से पूर्व अल्पावधि और दीर्घ अवधि में अपनी आवश्यकता के बारे में ध्यान रखें।
भारतीय मनी मार्केट में सुरक्षित रूप से निवेश करें

Happy Investment



बांड बनाम फिक्स्ड डिपॉजिट, बांड या फिक्स्ड डिपॉजिट्स में से कौन सा विकल्प चुनना चाहिए ?, बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट्स बनाम बॉन्ड फंड, Bonds versus fixed deposits, Should one opt for bonds or fixed deposits?, Bank fixed deposits Vs Bond funds. 

No comments:

Post a Comment