Uric Acid Impacts On Body

What is uric acid, how it affect our health, how to control level of uric acid in body?, क्या है यूरिक एसिड, कैसे ये हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, कैसे संतुलित करे शारीर में यूरिक एसिड को. 
What is uric acid, how it affect our health, how to control level of uric acid in body?, क्या है यूरिक एसिड, कैसे ये हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, कैसे संतुलित करे शारीर में यूरिक एसिड को.
Uric Acid Impacts On Body
People generally think that uric acid is harmful for us but some amount of uric acid is essential for us like for male 3.4 to 7 milligram per decilitre is essential and for female 2.4 to 6 milligram per decilitre is necessary. If it increases more than this level then it give rise to arthritis, joints pain etc.
Access amount of uric acid is also known as “Hyperuricemia”. Access amount of uric acid make crystals in body which give rise to many health issues.

How uric acid form in body?

Dead cells present in body releases purin and when pyurin breaks then it form uric acid which mix with blood and come out through kidney. If the amount of uric acid increases then the power of kidney then the amount of uric acid increases and generates problems of different kinds.

Impacts of Hyperuricemia?

When amount of uric acid increases in blood then this is called Hyperuricemia, in this position uric acid present in blood converted into crystals and they accumulated in joints and affect the organs, due to this pain in joints felt. 
Uric acid is  a compound of cargon, nitrogen, oxygen and hydrogen. It make ion and salts which is also called URETS(uric acid salts). This form stone in kidney. These stones are transparent and so not detected in X-RAY. So there is need to do ultra sound or stone protocol CT.
As per researches more use of table sugar enhances the formation of uric acid in body. Fast also enhance uric acid formation in body.

How To Control Formation Of Uric Acid?

  1. By drinking sufficient water i.e. 10 to 12 glass control the formation of uric acid. If we take warm water with lemon juice empty stomach in the morning then it is also helpful.
  2. Include tomatoes, cucumber, corn, cauliflower, potatoes in meal.
  3. Bajra and jwar is also good to control uric acid in body. 
  4. Banana is also a very good fruit which control the level of uric acid.
  5. Rich fiber foods are good because they absorb uric acid and take out smoothly from body.
  6. Guava, orange, lemon, green vegetables, are also very helpful to control formation of uric acid.

आइये अब जानते हैं हिंदी में यूरिक एसिड के बारे में:

लोग साधारणतः यही सोचते है की यूरिक एसिड शारीर के लिए हानिकारक है परन्तु ऐसा नहीं है कुछ मात्रा में इसकी जरुरत सभी को रहती है जैसे की पुरुषो में ३.४ से ७ मिलीग्राम पर देसिलिटर तक की जरुरत होती है और महिलाओं में २.४ से ६ मिलीग्राम पर देसिलिटर तक की जरुरत होती है यूरिक एसिड की. इस मात्रा से अधिक यूरिक एसिड अगर शारीर में हो तो नुक्सान करता है और जोड़ो में दर्द, गठिया आदि समस्या पैदा करता है.
यूरिक एसिड की अधिक मात्रा को “हाइपरयूरीकीमिया” भी कहते हैं. अधिक मात्रा में यूरिक एसिड होने पर शारीर में क्रिस्टल के रूप में जमने लगते हैं जिससे की अनेक समस्याए पैदा होती है.

आइये अब जानते हैं की यूरिक एसिड कैसे बनता है शारीर में ?

शारीर में मौजूद मृत सेल्स प्युरिन छोड़ते हैं और जब प्युरिन टूटता है तो यूरिक एसिड बनता है जो की रक्त में मिलके किडनी के द्वारा बाहर भेज दिया जाता है. अगर किडनी के क्षमता से ज्यादा यूरिक एसिड बनने लगे तो शारीर में इसकी मात्रा बढ़ने लगती है और समस्याएं उत्पन्न होने लगती है.

आइये जानते हैं “हाइपरयूरीकीमिया” के नुक्सान :

जब यूरिक एसिड की मात्रा रक्त में बढ़ जाती है तो इसे “हाइपरयूरीकीमिया” कहते हैं , इस स्थिति में रक्त में मौजूद यूरिक एसिड क्रिस्टल में बदलने लगते हैं और अलग अलग जगहों में , जोड़ो में जमा होने लगते हैं , इससे व्यक्ति को परेशानी महसूस होने लगती है, दर्द महसूस होता है. 
यूरिक एसिड कंपाउंड है कार्बन, नाइट्रोजन, ऑक्सीजन और हाइड्रोजन का. ये आयन और नमक बनाते हैं जिसे “यूरेट्स” भी कहते हैं. यही किडनी में पत्थर बनता है. ये पत्थर पारदर्शी होते हैं जिससे की एक्स-रे में दिखाई नहीं देते हैं. अतः अल्ट्रा साउंड की जरुरत होती है या फिर स्टोन प्रोटोकॉल सी टी की जरुरत होती है.
शोध ये भी बताते हैं की जो लोग ज्यादा टेबल सुगर लेते हैं उनमे यूरिक एसिड ज्यादा बनता है. उपवास के दौरान भी यूरिक एसिड का निर्माण ज्यादा होता है.

आइये अब जानते हैं की कैसे नियंत्रित करे यूरिक एसिड के निर्माण को शारीर में ?

  1. रोज पानी खूब पीना चाहिए, करीब १० से १२ गिलास पानी रोज पीने से यूरिक एसिड को नियंत्रित किया जा सकता है.
  2. अगर सुबह खाली पेट गर्म पानी में निम्बू डाल के पिया जाए तो ये बहुत फायदेमंद होता है.
  3. खाने में टमाटर, खीरा , मक्का, फूलगोभी, आलू को शामिल करना चाहिए , इससे बहुत लाभ होता है.
  4. बाजरा और ज्वार भी बहुत अच्छे होते हैं यूरिक एसिड को नियंत्रित करने में.
  5. केला एक अच्छा फल है जिसे खाने से बहुत लाभ होता है.
  6. अमरुद, नारंगी, निम्बू, हरी पत्तेदार सब्जियां, भी बहुत उपयोगी है यूरिक एसिड को नियंत्रित करने में. 
  7. खाने में फाइबर से युक्त भोजन करना चाहिए, ये यूरिक एसिड को सोख लेते हैं और आसानी से शारीर से बाहर निकाल देते हैं.

What is uric acid, how it affect our health, how to control level of uric acid in body?, क्या है यूरिक एसिड, कैसे ये हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, कैसे संतुलित करे शारीर में यूरिक एसिड को. 

No comments:

Post a Comment