Constipation In Children

Constipation in children, बच्चो में कब्ज, पाचन सम्बंधित समस्या का कारण और निवारण, reasons of digestion problem in children, ways to treat constipation in children, वैकल्पिक पद्धति द्वारा कब्ज का इलाज.
Constipation in children, बच्चो में कब्ज, पाचन सम्बंधित समस्या का कारण और निवारण, reasons of digestion problem in children, ways to treat constipation in children, वैकल्पिक पद्धति द्वारा कब्ज का इलाज.
Constipation In Children
 With the increase of fast food, hectic life schedule, habit of engage in electronic gadgets, one more problem is growing rapidly worldwide and i.e. constipation in children. Due to this many other problems arises in children.

Lets See Some Symptoms Of Constipation In Children:

  • Some children have very hard stool, this is because of constipation. 
  • Children feel problem while leaving stool.
  • Some children have feeling but unable to shit when go to latrine.

Let’s See Some Impacts of Constipation:

  1. Children suffer from constipation gradually suffer from fear of pain while leaving stool and so they avoid going for latrine.
  2. Some children suffer from piles in very early age.
  3. Some children leave eating proper diet.
  4. Weakness in body.
  5. Children avoid taking part in extra activities.
  6. Overall growth affected.

Let’s Know About Types of Constipation:

There are basically 2 types of constipation seen-
  1. Organic constipation- In this due to some physical problem or pathology reason children faces constipation.
  2. Non Organic Constipation- In this due to the life style and eating habit children suffer from constipation.
Mostly children are suffer from non organic constipation. 

Treatment Of Constipation:

This must be kept in mind that instead of using medicine, do change the life style and eating habit if any one want to get-rid of constipation. Take steps as soon as possible because older problems need more time to cure.

Let’s See some alternative ways to treat constipation in children-

  • Use green vegetables more in meal.
  • Try to include fruits in routine life.
  • Use salads more and more. 
  • Try to minimize the habit of eating fast food gradually.
  • Don’t drink hot milk.
  • Minimize the rice and food made with rice.
  • Minimize the habit of eating biscuits, chocolates and bread.
  • Motivate children to play outdoor games.
  • Do give fresh juices to children time to time.
  • Before sleeping do take a cup of warm water with a half lemon juice.
So by adopting some free natural and alternative ways we are able to make our children life healthy, wealthy and successful. 

आइये अब जानते हैं कब्ज के बार में हिंदी में –

वर्त्तमान में बच्चो में कब्ज की बिमारी बढ़ती जा रही है और इसका मुख्य कारण है व्यस्त जीवनचर्या, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स में घुसे रहना और फ़ास्ट फ़ूड का ज्यादा स्तेमाल. कब्ज के कारण बहुत सी अन्य समस्याएं भी उत्पन्न होने लगती है.

आइये अब जानते हैं कब्ज के कुछ लक्षण :

  1. कुछ बच्चो का मल बहुत सख्त हो जाता है कब्ज के कारण.
  2. बच्चो को मल त्याग में परेशानी होती है.
  3. कुछ बच्चे मल त्याग करने से कतराने लगते हैं.

आइये अब जानते हैं कब्ज के जीवन में क्या प्रभाव हो सकते हैं?

  • कब्ज के कारण बच्चे के अन्दर एक डर पैदा हो जाता है उस दर्द से जो की मल त्याग के समय होता है. इसके कारण वो मल त्याग से बचना चाहता है.
  • कुछ बच्चो को कम उम्र में ही पाइल्स हो जाता है.
  • कुछ बच्चे ठीक से खाना बंद कर देते हैं.
  • कुछ बच्चे बहुत कमजोर होने लगते हैं.
  • बच्चे अतरिक्त कार्यो में भाग लेने से कतराने लगते हैं.
  • बच्चे की सम्पूर्ण विकास कब्ज के करना प्रभावित होता है.

आइये अब जानते हैं कब्ज के प्रकार ?

बच्चो में कब्ज साधारणतः २ प्रकार के होते हैं –
  1. आर्गेनिक कब्ज – इसमें किसी न किसी शारीरिक कमजोरी के कारण या फिर पैथोलॉजी कारण से बच्चा कब्ज से ग्रस्त होता है.
  2. नॉन आर्गेनिक कब्ज – इसमें जीवन शैली और खाना खाने की आदतों के कारण बच्चा कब्ज से ग्रस्त होता है.
ज्यादातर बच्चे तो नॉन आर्गेनिक कब्ज से ग्रस्त होते हैं.

आइये अब जानते हैं कब्ज के इलाज के बारे में :

ये हमेशा याद रखना चाहिए की दवाइयों के बजाय जीवन शैली को बदलकर ही कब्ज का बेहतर इलाज हो सकता है. अगर बच्चा कब्ज से ग्रस्त हो रहा है तो जल्द से जल्द इलाज शुरू करना चाहिए क्यूंकि जैसे जैसे कब्ज पुराना होगा , उतना ही अधिक समय लगेगा ठीक होने में.
आइये जानते हैं कुछ वैकल्पिक तरीके जिनसे आसानी से कब्ज से छुटकारा मिल सकता है –
  1. ज्यादा से ज्यादा हरे पत्तेदार सब्जियों का स्तेमाल करे भोजन में.
  2. रोज फलो का स्तेमाल करना शुरू करे.
  3. सलाद ज्यादा से ज्यादा खाएं.
  4. फ़ास्ट फ़ूड खाने की आदत कम करते जाएँ .
  5. ज्यादा गर्म दूध मत पीजिये.
  6. चावल और चवल से बने पदार्थ को खाना कम करे.
  7. बिस्कुट , चोक्लेट्स और ब्रेड का स्तेमाल कम करे.
  8. बच्चो को बाहर  खेल खेलने के लिए प्रेरित करे.
  9. बच्चो को समय समय पर फलो का तजा रस दे.
  10. सोने से पहले १ कप गर्म पानी में आधा निम्बू निचोड़ कर पिला कर सुलाए.
इस प्रकार से कुछ आसान और प्राकृतिक उपायों को स्तेमाल करके हम अपने बच्चो को स्वस्थ कर सकते हैं और एक सफल जीवन जीने में मदद कर सकते हैं.

Constipation in children, बच्चो में कब्ज, पाचन सम्बंधित समस्या का कारण और निवारण, reasons of digestion problem in children, ways to treat constipation in children, वैकल्पिक पद्धति द्वारा कब्ज का इलाज.

No comments:

Post a Comment