Alzheimer Diseases Reasons and Ways To Treat

What is alzeimer, symptoms of alzeimer, ways to treat alzeimer, Reasons and treatment of alzeimer, Alternative ways to treat this disease, अल्जाइमर बीमारी को जानिए हिंदी में, क्या है अल्जाइमर, कैसे होता है अल्जाइमर, इलाज क्या है अल्जाइमर का, वैकल्पिक चिकित्सा द्वारा इस बिमारी का इलाज कैसे कर सकते हैं.
What is alzeimer, symptoms of alzeimer, ways to treat alzeimer, Reasons and treatment of alzeimer, Alternative ways to treat this disease, अल्जाइमर बीमारी को जानिए हिंदी में, क्या है अल्जाइमर, कैसे होता है अल्जाइमर, इलाज क्या है अल्जाइमर का, वैकल्पिक चिकित्सा द्वारा इस बिमारी का इलाज कैसे कर सकते हैं.
Alzheimer Diseases Reasons and Ways To Treat
If we want to know about neurodegenerative diseases then Alzeimer comes in mind, it is a mental disorder in which person lose the ability to identify and thinking perfectly. The main reason of this disorder is that nerve cells of brain become dead and so the brain is unable to store the information.
We have generally listened that some old person forgets things after keeping them somewhere. Some people forget there name, address, phone number, eating meal, regular work etc. These are all because of a disease known as alzeimer.
In this disease, memory of person gradually becomes low. This type of persons are not able to learn new things because of there weak memory power. Gradually they also forget their own relatives, close ones etc.

Let’s Know the Reasons Of alzeimer:

There is no specific reason of this diseases, research are going on, some reasons which are provided by researchers are-
  1. Medically when the level of Acetylcholine (neurotransmitter) is affected then this disease arises.
  2. Genetic- It means it is possible that some one suffer because someone in family was suffered earlier from alzeimer.
  3. Next is , in old age some cells in brain becomes dead due to which brain not get signals properly from sense organs. This also causes alzeimer.
  4. There is high risk in people who smokes and addicts of drugs.
  5. Diabetic people, patients of blood pressure also have high risk to get suffered from this disease.

Let’s Know Some Symptoms of alzeimer :

  1. Person faces memory loss gradually i.e. he or she forgets things after keeping it somewhere. 
  2. Person faces problems in performing regular task.
  3. Person gets confuses related to known places, family members, friends etc.
  4. Person faces problems in speaking right words as per thinking. Tongue sleeps without intention. 
  5. Judgement taking power also gets affected.
  6. Person is unable take part in social activities due to their behavior.
  7. Mood of person changes very soon i.e. sometimes they feel happy, sometimes depression, sometimes fun, sometimes sad.
  8. Forget to take meal.

Treatments of Alzeimer disease:

As per research it is not possible to treat this disease 100% but by using some medicines it is possible to control the symptoms. In actual the level of Acetylcholine is less in brain who are affected with alzeimer disease, so by medicines doctors try to control the level of Acetylcholine in brain. 
It is good to consult psychiatrist as soon as possible if any one is suffering from this disease.

Now let’s know the Alternative ways to treat this Alziemer :

As I said above that it is not possible to treat this disease 100% because of age factor but if we follow some rules in daily routing life then it is possible to minimize the risk to get suffer from this disease.
  • Do pranayam regularly in the morning in fresh air to powerup the brain and body with energy.
  • Do take deep breathe.
  • Don’t spend time with negative minded people.
  • Avoid drugs to cool yourself or for entertainment.
  • Do play outdoor games.
  • Try to spend sometimes with friends and family member.
  • Laughter therapy will also help you to overcome from any tension.
  • Meditation is a also a good way to keep ourselves away from any mental disorder.
  • Take proper sleep.
So it is better to take precautions then to search for medicines for any diseases. Nature is the best medicine and so just spend time with nature and be natural too.

आइये अब जानते हैं हिंदी में अल्जाइमर बीमारी के बारे में :

अगर हम किसी मानसिक रोग के बारे में बात करे जिसमे की व्यक्ति पहचानने की ताकत खोने लगता है, तो हमारे दिमाग में अल्जाइमर बीमारी का नाम आएगा. ये एक मानसिक रोग है जिसमे की दिमाग के नर्व सेल्स ख़त्म होने लगते है और दिमाग में जानकारियों को इकठ्ठा करके रखने की शक्ति कम होती जाती है. व्यक्ति पुरानी चीजो को भी भूलने लगता है.
हमने बहुदा ऐसा सुना है की कुछ वृद्ध जन चीजो को रखके भूल जाते हैं, कुछ लोग अपना नाम, पता, फ़ोन नंबर, खाना और रोजमर्रा की आदते भी भूलने लगते हैं. ये सभी अल्जाइमर बीमारी के कारण हो सकता है.
इस बिमारी में व्यक्ति की दिमागी शक्ति धीरे धीरे कम होने लगती है. ऐसे व्यक्ति नई चीजो को भी सिखने में परेशान होते हैं. और धीरे धीरे वे अपने लोगो को भी भूलने लगते हैं.

आइये अब जानते हैं अल्जाइमर बीमारी के कुछ कारणों को-

इस दिमागी बीमारी का कोई एक कारण नहीं है, आज भी इस पर शोध जारी है. परन्तु कुछ कारण जो पता चल पाए हैं , वे हैं –
  • चिकित्सा क्षेत्र के मान्यता के अनुसार जब दिमाग में मौजूद न्यूरो ट्रांसमीटर(Acetylcholine) की मात्रा कम हो जाती है तब अल्जाइमर बीमारी होती है.
  • एक कारण वांशिक भी हो सकता है. अगर परिवार में कोई इस रोग से प्रभावित रहा हो तो भी आने वाले पीढ़ी में कोई इस रोग से ग्रस्त हो सकता है. 
  • एक कारण है की बुढ़ापे में कुछ लोगो के दिमाग के सेल्स मरने लगते है जिससे की तरंगे सही तरह से भ्रमण नहीं कर पाती है, इससे भी अल्जाइमर बीमारी होती है.
  • जो लोग धुम्रपान बहुत करते हैं और ड्रग्स के आदि है उनको भी ये हो सकती है.
  • सुगर और रक्त चाप के बिमारी से ग्रस्त लोगो को भी ये होने की संभावनाए अधिक होती है.

आइये अब जानते हैं अल्जाइमर बीमारी के कुछ लक्षण :

  1. व्यक्ति की याददाश्त कमजोर होने लगती है जिससे की वो चीजो को इधर उधर रखके भूल जाता है.
  2. व्यक्ति को रोजमर्रा के कार्यो को करने में भी समस्या होती है.
  3. व्यक्ति को परिचित जगहों, परिचित लोगो, रिश्तेदारों को भी पचान्ने में परेशानी होती है.
  4. व्यक्ति को सही शब्द को बोलने में भी समस्या होती है.
  5. व्यक्ति की निर्णय लेने की शक्ति भी प्रभावित होती है.
  6. व्यक्ति सामाजिक आयोजनों में भी भाग लेने से भी झिझकने लगता है.
  7. व्यक्ति का मिजाज भी तेजी से बदलता रहता है जैसे वो कभी बहुत खुश होता है, कभी ग़मगीन होता है, कभी अवसाद में दिखेगा आदि.
  8. व्यक्ति भोजन करना भी भूल जाता है.

आइये अब जानते हैं अल्जाइमर बीमारी का इलाज :

शोध के अनुसार ये पाया गया है की इस बिमारी का १००% इलाज संभव नहीं है. कुछ दवाये डॉक्टर्स द्वारा दी जाती है जिससे की इनके लक्षणों को गंभीर होने से रोका जाता है. सही मायने में Acetylcholine की मात्रा इ कम होने से अल्जाइमर बीमारी होती है अतः दवाओं द्वारा इसकी मात्रा को नियंत्रित करने की कोशिश की जाती है.
अगर किसी में अल्जाइमर बीमारी के लक्षण दिखे तो तुरंत दिमाग के डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए.

आइये अब दृष्टि डालते हैं की किस प्रकार व्यकल्पिक तरीके से इस बिमारी से बचा जा सकता है ?

जैसे की मैंने ऊपर कहा की इस बिमारी का शत-प्रतिशत इलाज संभव नहीं परन्तु अगर हम रोजमर्रा में कुछ नियमो का पालन करे तो इस प्रकार के बिमारी से बचा जा सकता है.
  1. रोज प्राणायाम करना चाहिए जिससे की दिमाग और शरीर में प्राणशक्ति का स्तर नियंत्रित रहे.
  2. गहरी साँसे लेना चाहिए.
  3. नकारात्मक विचारों के व्यक्तियों के साथ समय नहीं बिताना चाहिए.
  4. अपने आपको खुश करने के लिए किसी मादक पदार्थो का सेवन नहीं करना चाहिए.
  5. बहार खेले जाने वाले खेलो को खेलना चाहिए.
  6. कुछ समय अपने दोस्तों, रिश्तेदारों के साथ बिताना चाहिए.
  7. हास्य योग से भी तनाव को कम करने में मदद मिलती है.
  8. ध्यान योग से भी कई प्रकार की दिमागी बिमारी से अपने आपको बचाया जा सकता है.
  9. अच्छी नींद जरुर लेना चाहिए.
अतः कुछ सावधानियो को रखके हम दिमागी बीमारी से अपने आपको बचा सकते हैं. प्रकृति से अच्छा डॉक्टर कोई नहीं है. प्रकृति के साथ कुछ समय जरुर बितायें और अपने आपको भी संतुलित रखिये.
What is alzeimer, symptoms of alzeimer, ways to treat alzeimer, Reasons and treatment of alzeimer, Alternative ways to treat this disease, अल्जाइमर बीमारी को जानिए हिंदी में, क्या है अल्जाइमर, कैसे होता है अल्जाइमर, इलाज क्या है अल्जाइमर का, वैकल्पिक चिकित्सा द्वारा इस बिमारी का इलाज कैसे कर सकते हैं.

No comments:

Post a Comment